KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

मुहब्बत में ज़माने का यही दस्तूर होता है

जिसे चाहो नज़र से वो ही अक्सर दूर होता है
मुहब्बत में ज़माने का यही दस्तूर होता है
बुलंदी चाहता पाना हरिक इंसान है लेकिन
मुकद्दर साथ दे जिसका वही मशहूर होता है ।
सभी के हाथ उठते हैं इबादत को यहाँ लेकिन
ख़ुदा को किसका जज़्बा देखिये  मंजूर होता है।
उलटते ताज शाहों  के यहाँ देखें हैं हमने तो
अभी से किसलिए तू इस कदर  मग़रूर होता है ।
हज़ारों रोज़ मरते हैं यहाँ पैदा भी होते हैं
कभी किसकी कमी से यह जहाँ बेनूर होता है।
तुम्हें कैसे दिखाई देगी इस घर की उदासी भी
तुम्हारे आते ही चारों तरफ़ जो नूर होता है।
अभी से फ़िक्र कर *रानी* तू उनके बख़्शे जख़्मों की
इन्हीं ज़ख़्मों से पैदा एक दिन  नासूर होता है।
      जागृति मिश्रा *रानी

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.