KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

सौम्य-स्वरूपा माँ

0 69

सौम्य-स्वरूपा माँ

सौम्य-स्वरूपा माँ मेरी,    
             तुम वो शीतल चंदन हो।
जिसके आँचल के साया में,  
              लहरता नंदनवन हो।
छीर-सुधा रसपान कराके,   
              पुष्ट बनाया मेरा तन मन।
पाला-पोषा तूने मुझको,   
             करके सौ-सौ स्नेह जतन।
अपने त्याग-तपस्या से माँ, 
              तूने मुझे बनाया कंचन।
बिन मांगे सब पाया मैने,
            चरणों को छू करते ही वंदन।
निश्छल ममता भरे हृदय में,     
            तुम वो निर्मल गंगाजल हो।
मुझको जग दिखलाने वाली,   
           तुम सुरभित पावन संदल हो।
सौम्य स्वरूपा माँ मेरी,
             तुम वो शीतल चंदन हो।

        “मेरी माँ”

       रविबाला ठाकुर”सुधा”
              (शिक्षिका)
        M./S. – जरहाटोला
              स./लोहारा

Leave a comment