KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

मेरे ख़यालों में

0 694

एक प्रयोग

?

तुम मेरे ख़यालों में होते हो
मैं ख़ुशनसीब होता हूँ
बात चलती है तुम्हारी जहाँ
मैं ज़िक्र में होता हूँ .

पलकें बंद होती नहीं रातों को
यादों को तुम्हारी आदत है
रातों की सियाही कटती नहीं
मैं फ़िक़्र में होता हूँ.

क़तरा – क़तरा सुकूँ ज़िन्दगी में
जमा होता है, यक-ब-यक नहीं
लुट जाता है ये सब अचानक
मैं हिज़्र में होता हूँ .

ढूँढता रहा हर सू ताउम्र
चमन में बारहा इक़ अपनाइयत
न मिला रहमत कोई यहाँ
मैं खिज्र में होता हूँ .

?

✒राजेश पाण्डेय *अब्र*

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.