मैं जग का नन्हा दीपक हूँ -डाँ. आदेश कुमार पंकज(mai jag ka nanha dipak hun)

मैं जग का नन्हा दीपक हूँ ।।

मैं निर्भय होकर जलता हूँ ।।
****************************
निपट अकेला कोई होता ।
चिंताओ में जब है खोता ।।
रक्षक बन जाता हूँ उसका ,
मैं अपलक जगता रहता हूँ ।।
मैं जग का नन्हा दीपक हूँ ।।
मैं निर्भय होकर जलता हूँ ।।
****************************
होता दो दिल का बंधन जब ।
जुड़ना चाहें दो जीवन जब ।।
सौगंध दिला के जन्मों की ,
मैं साक्षी उनका बनता हूँ ।।
मैं जग का नन्हा दीपक हूँ ।।
मैं निर्भय होकर जलता हूँ ।।
****************************
आलोकित करता कुंज कुंज ।
आलोक पुत्र ,आलोक पुन्ज ।।
कर देता हूँ सब कुछ अर्पण ,
मैं शीश कटा कर हँसता हूँ ।।
मैं जग का नन्हा दीपक हूँ ।।
मैं निर्भय होकर जलता हूँ ।।
*****************************
जहाँ प्रभो का मान रहेगा ।
इक मेरा भी स्थान रहेगा ।।
मैं प्रभु मंदिर की आरति हूँ ,
मैं पद पंकज में जलता हूँ ।।
मैं जग का नन्हा दीपक हूँ ।।
मैं निर्भय होकर जलता हूँ ।।
*****************************
डाँ. आदेश कुमार पंकज
(Visited 1 times, 1 visits today)