KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

मौत का खबर सब सुनता रहा

0 108

मौत खबर सब सुनता रहा
~~~~~~~~~~~~~
यूं ही मै गरल पीता रहा,
चारदीवारी में गुनता रहा।
नजर बंद हो अपने घर में,
मौत खबर सब सुनता रहा।

अपनों से अपने भी दूर हैं,
काँधा भी नहीं मजबूर हैं।
दूना कर गए ओ जगत को,
अस्थियां उनके चुनता रहा।
नजर बंद हो अपने घर में,
मौत खबर सब सुनता रहा।

छीनी किसने उनकी साँसें,
उजड़ गई उनकी दुनिया।
हालात से मजबूर बहुत हैं,
सपन सुरीले बुनता रहा।
नजर बंद हो अपने घर में,
मौत खबर सब सुनता रहा।
~~~~~~~~~~~~~~
डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”
मिडिल स्कूल पुरुषोत्तमपुर,
बसना(छत्तीसगढ़)
मो. 8120587822

Leave A Reply

Your email address will not be published.