यही पितृ पक्ष का सच्चा श्राद्ध-धनंजय सिते(राही) (yahi pitri paksha ka sachcha shraddh)

पितृ पक्ष विशेष

””””””””””””””””’
आजका बच्चा कलका यूवा
और परसो बुढ़ा होना है!
ये प्रकृती का नियम है सबको
एक दिन इससे गुजरना है!!
                  २
आजकी बेटी कल पत्नी माता
परसो वह भी बनेगी सास!
बेटा आजका कल पती,पिता है
दादा,नाना परसो का खास!!
                   ३
यही परिवार का चक्र है मित्रो
यह सबके साथ ही होना है!
कद्र करो सब बुजूर्गो की तुम
हम सबको ही बुढ़ा होना है!!
                    ४
जिवित है जबतक मात पिता
या हम सबके वो सास ससुर!
जितनी भी होती सेवा कर लो
ना जीवन लगे उनको मज़बुर!!
                   ५
खान पान का ध्यान रखो तुम
दुध दवाई समय पर दो!
जिंदे है तब तक जीवन मे उनके
सारी खूशिया तुम भर दो!!
                    ६
बोझ जिन्दगी उन्हे ना लगे
व्यवहार ही ऎसा करना तुम!
मान रख सम्मान भी करना
मन माफिक सारा करना तुम!!
                   ७
अंत समय जब उनका आए तो
बहू,बेटा कहने हो वो बाध्य!
मरने पे दिखावा करने से अच्छा
यही पितृ पक्ष का सच्चा श्राद्ध!!
””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””’

कवि-धनंजय सिते(राही)
जिला-छिन्दवाड़ा(म.प्र.)
सम्पर्क-9893415829
   

(Visited 2 times, 1 visits today)