KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

युग परिवर्तन-पद्ममुख पंडा महापल्ली(yug parivartan)

0 128

युग परिवर्तन

वेद पुराण उपनिषद् ग्रन्थ सब
पुरुषों ने रच डाला
तर्क वितर्क ताक पर रख कर
किया है कागज काला
सदियों से इस धरा धाम में
झूठ प्रपंच रचाया
मानवता को किया कलंकित
भेदभाव अपनाया
ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शूद्र में
किया विभाजित जन को
निराधार कारण समाज में
बाँट दिया जन जन को
करके मात्र कल्पना से ही
ईश्वर को रच डाला
और कहा लोगों से
है यह रक्षा करने वाला
संकट की हर घड़ी में
ईश्वर ही एक सहारा
करना निश दिन पूजा इसकी
है सर्वस्व हमारा
वर्णभेद औ जाति प्रथा की
नींव रखी जब उसने
इतना अमंगलकारी होगा
सोचा था तब किसने?
जन्मजात ही ऊंच नीच का
ऐसा पाठ पढ़ाया
हर मनुष्य के मन में विष भर
लोगों.को भड़काया
ब्राह्मण बनकर इस समाज की
कर दी ऐसी तैसी
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई
न जाने कैसी कैसी?
पर मित्रों अब हमें चाहिए
परिवर्तन की ज्योति
नया धर्म हो मानवता की
जग में बिखरे मोती
प्रेम और सद्भाव आज की
सबसे बड़ी जरूरत
हम बदलेंगे युग बदलेगा
बदले जग की सूरत

विचारक पद्ममुख पंडा महापल्ली

Leave a comment