योगा नित दिन करना है(yoga nit din karna hai)

#kavitabahar, #yoga divas# hindi kavita# yoga based poem#ravibala thakur sudha
~~~~~~~~~~~~~~~~
योगा नित दिन करके हमको,
तन-मन स्वस्थ बनाना है।
दूषित पर्यावरण के प्रकोप से,
खुद को हमें बचाना है।
यकृत, गुर्दा, हृदय  रोगों  को,
पास न  आने  देना है।
जीवन  के इस भाग – दौड़ में,
चाहे कितनी उलझन हो।
थोड़ा समय निकाल  हमें भी,
अनुलोम-विलोम करना है।
खुद पर संयम रखकर हमको,
शरीर संतुलित बनाना है।
दुर्लभ  जीवन  पाया  हमनें,
काया कंचन बनाना है।
सारे व्याधियों को दूर भगाने,
योगा नित दिन करना है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~

रविबाला ठाकुर”सुधा”

स./लोहारा, कबीरधाम

मो.नं.-9993382528

(Visited 3 times, 1 visits today)