राखी चंदा पहुँच गई है….

पृथ्वी ने भेजी है राखी ,
चंदा तक पहुंचाने को ।
विक्रम-प्रज्ञान हैं बने संवदिया,
भाई-राखी बंधवाने को ।

राखी में भरकर है भेजा,
आठ-अरब का प्यारा- प्यार ।
इसरो ने उसको पहुँचाया ,
सोलह-बरस ,मेहनत का सार ।

भारत संग जहान यह सारा,
चंद्रयान पर गर्व करें ।
उज्ज्वल भविष्य ,चमकते सपने ,
जन-जन की आंखों में भरे ।

लघु को कमतर ना माना करते ,
व्यापक सोच के मानक पर ।
अंतरिक्ष असीम-अपरिमित,
पर होगा प्रज्ञान-असर ।

मानवता के कदम बढ़े हैं,
अंतरिक्ष में चांद की ओर ।
मंगल, शनि , शुक्र और सूर्य ,
छूना हर ब्रह्मांड का छोर ।

हाथ तिरंगा ,आँखों सपने,
विश्व-गुरु की कसौटी पर ।
छोटे-छोटे कदमों से चलकर ,
बने विश्व इक कुटुम्ब का घर ।

देशों के शामिल प्रयासों से ही,
नए गगन तक पहुंच बने ।
अंतरिक्ष की रक्षा भी हो,
चला कारवां ,ना कभी थमें ।

विविध-विविधता लेकर भारत,
भीम-जनतंत्र से एक बना ।
विश्व-परिवेश भी एक बने तो,
कैसा हो ये नेकसपना ?

हथियार-होड़ की हठ से हटकर,
नई राह को चुनना है ।
जहां मानव खुशहाल भविष्य हो,
संसार को ऐसा बुनना है ।

सहपृथ्वी, शताधिक बहनों ने,
प्यार अपना पहुँचाया है ।
चंदामामा वो जग के बन गए,
भारत-प्रज्ञान सरमाया है

सोलह-अरब आंखों के सपने,
भारत पर ही अब उम्मीद ।
राखी-चंदा पहुंच गई है ,
सूर्य-सर्वोदय, अब होंगे दीद ।

अमृत-महोत्सव ,’स्वर्ण-चिड़िया ‘ का,
खुले अंतरिक्ष में मनाएंगे ।
‘स्वाधीनता दिवस दो हजार सैंतालीस ‘
‘अजस्र’ सपने सजाएंगे ।

*डी कुमार-अजस्र(दुर्गेश मेघवाल, बून्दी/राज.)*

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *