KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

राजेश पाण्डेय अब्र के जीवन से जुड़ी हुई 30 दोहों का संकलन जिसे आप जरुर पढ़ें( abra’s life changing dohe)

0 57

अब्र के दोहे


1-
है मलीन चादर चढ़ी, अंतः चेतन अंग

समझे तब कैसे भला, हूँ मैं कौन मलंग।।


2-
प्रतिसंवेदक कॄष्ण हैं, लिया पार्थ संज्ञान।

साध्य विषय समझे तभी, हुआ विजय अभियान।।


3-
*मैं* अनुनादी उम्र भर, अविचारी थे काज।

जिस दिन प्रज्ञा लौ जली, समझे तब यह राज।।

(मैं – अहंकार)

4-
अवधारक बनकर करें, कुण्डलिया से योग।

नित्य करें जब ध्यान तो, हुए दूर दुर्योग।।


5-
सत्य यही अवधारणा, ब्रह्म मिले संज्ञात।

यक्ष प्रश्न जीवन समर, करें यत्न से ज्ञात।।


6-
कर्मयोग इंसान को, दे प्रशांत सा मान।

कर्मवाद अनुनाद ही, ईश्वर का गुणगान।।


7-
*मनस्कार* का अवनमन, ईश्वर सम्मुख मान।

नमस्कार के भाव से, है मिलता सम्मान।।

(मनस्कार – पूर्ण चेतना (ज्ञान)

8-
मति विवेक चिंतन करे, मन में अंकुश डाल।

उच्श्रृंखल मत छोड़िये, रखें नियंत्रित हाल।।


9-
सोना कुंदन जब बने, प्रखर भाव का मान।

परिष्कार शुचिता गढ़े, निर्मल मन अंजान।।


10-
निज इच्छा हरि कामना, समझें जब यह बात।

नैतिकता मन को कसे, सुधरे तब हालात।।


11-
विपदा में होती सदा, कष्टों की भरमार।

जो तारक बनते स्वयं, उनकी नैया पार।।


12-
दिव्य ज्ञान की लौ जहाँ, जल जाए इक बार।

*प्रमा* सुधा बरसे वहीं, जैसे मेघ अपार।।

(प्रमा – चेतना, आत्मज्ञान)

13-
दर्प कभी अच्छा नहीं, मिले न इसको मान।

अहंकार का यह परम, खो देता सम्मान।।


14-
हरि आए मन की डगर, निश्छल हिय विश्वास।

सत्य मौन आराधना, प्रभु के निकट निवास।।


15-
परहित लक्ष्य बनाइये, तज कर निज अभिमान।

पुण्य करे शुचि आपको, ले ईश्वर संज्ञान।।


16-
वैचारिकता शून्य सी, यत्र तत्र हो तंत्र।

सकारात्मक सोच सदा, खुश जीवन का मंत्र।।


17-
पानी सदा बचाइये, नित्य रहे यह ध्यान।

जल ही जीवन सूत्र है, लिया विश्व संज्ञान।।


18-
अस्त व्यस्त हमने किया, पर्यावरण मिजाज।

अतिवादी मौसम हुआ, समझे तब हैं आज।।


19-
प्रातः उठकर जो करे, नित्य ध्यान फिर योग।

स्वास्थ्य सूत्र जिसको मिले, रहता वही निरोग।।


20-
वाणी संयम से मिले, सामाजिक सम्मान।

तोल मोल बोली सदा, रखे आपका मान।।


21-
अभिनन्दन समतुल्य है, नर नारी का मान।

इनमे अंतर है नहीं , दोनों एक समान।।


22-
करें अर्चना ईश की, हरे तमस हर पीर।

अन्तर्मन को फिर चलें, यात्रा करें सुधीर।।


23-
अनुभव के आधार पर, मिलता सबको मान।

सामाजिक परिवेश में, है इसका सम्मान।।


24-
सच है नश्वर जगत में, प्रेम भाव का तत्व।

जो इसमें रच बस गया, मिले उसे अमरत्व।।


25-
दिल की बगिया में सदा, खिलें प्रेम के फूल।

मोह सभी का भंग हो, सार तत्व ये  मूल।।


26-
ईश्वर के अनुराग से, हो कष्टों का अंत।

अवनि के हर जीव सदा, हर्षित रहे अनंत।।


27-
वाणी से ही प्रेम है, और उसी से बैर।

मधुर भाषिता सर्वदा, करते सबकी खैर।।


28-
भारत की संस्कृति सदा, रही विश्व में श्रेष्ठ।

दुनियाँ रमने आ गयी, मान कुम्भ को ज्येष्ठ।।


29-
नारी के  सम्मान से, उन्नति करे समाज।

सतयुग में ऋषि कह गये, माने कलयुग आज।।


30-
प्रात कभी ऐसा रहे, सुनते कोयल तान।

मस्जिद में घंटी बजे, मंदिर करे अजान।।

नाम – राजेश पाण्डेय

उपनाम – अब्र

फोन  – 98266-24298
ई मेल [email protected]
पता – अक्षरधाम,
        श्री राम मंदिर के सामने, इंद्रप्रस्थ कॉम्प्लेक्स के पास, ब्रह्मपारा , अम्बिकापुर,
जिला – सरगुजा (छत्तीसगढ़)
पिन – 497001

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.