रुक्मणि मंगल

दोहे

रुक्मणि मंगल

विप्र पठायो द्वारिका,
पाती देने काज।
अरज सुनो श्री सांवरे,
यदुकुल के सरताज।।
⚜      ⚜      ⚜
रुक्मणि ने पाती लिखी,
सुनिये  श्याम मुकुंद।
मो मन मधुप लुभाइयो,
चरण- कमल मकरंद।।
⚜     ⚜    ⚜
सजी बारात विविध विधि,
आय गयो शिशुपाल।
सिंह भाग सियार कहीं,
ले जावे यहि काल।।   
⚜   ⚜    ⚜
जो न समय पर पहुँचते,
यदुवर चतुर सुजान।
देह धरम निबहै नहीं,
तन न रहेंगे प्राण।।
⚜   ⚜   ⚜
त्रिभुवन सुन्दर आइयो
मोहि वरण के काज
गौरी पूजन जावते
रथ बैठूँ सज साज
⚜    ⚜     ⚜
पहले रथ बैठाइयो
विप्र सुधारन काज
पाछे खुद बैठे हरी
गणनायक सिर नाय
⚜    ⚜    ⚜
कुण्डनपुर हरि आ गये,
विप्र दियो संदेश ।
गिरिजा पूजन को चली,
धर दुल्हन को वेष।
⚜    ⚜    ⚜
जगदम्बे घट बसत हो,
मुझको दो वरदान।
वर हो सुन्दर साँवरा,
कृष्ण चन्द्र भगवान।
⚜    ⚜   ⚜
एक नजर  बाहर पड़ी,
मोहित सभी नरेश।
रथ बैठारी बाँह गह,
यदुकुल कमल दिनेश।
⚜     ⚜    ⚜

पुष्पाशर्मा”कुसुम”

(Visited 4 times, 1 visits today)