वंदना

*वंदना*
माता शारदे वंदन करूँ।
                     मिले अब वरदान।।
वाणी में विराजती माता।
                       सदा देना ज्ञान।।
आलोकित हो हर पथ मेरा।
                       लेखनी पहचान।।
होवे विनती यह बार बार।
                      माता हो महान।।
सदा सदा सच पथ पर होता।
                     मातु का गुणगान।।
वीणावादनी माता सदा।
                      मिट जाये अज्ञान।।
                     …भुवन बिष्ट
             रानीखेत, उत्तराखंड
======================

(Visited 1 times, 1 visits today)