वतन में ये जो दहशत है,सियासत है, सियासत है.(vatan me ye jo dahsat hai ,siyasat hai siyasat hai)

 *ग़ज़ल* 
_वतन में ये जो दहशत है,_
_सियासत है, सियासत है.._
_मुझे तुम याद आती हो,_
_शिकायत है, शिकायत है.._
_जिधर देखूं तुम्ही तुम हो,_
_मुहब्बत है, मुहब्बत है.._
_तेरे रुखसार का डिम्पल,_
_कयामत है, कयामत है.._
_मिरे खाबों में आती हो,_
_शरारत है, शरारत है.._
_नहीं करता तुम्हें बदनाम,_
_शराफ़त है, शराफ़त है.._
_मुझे बर्बाद करके वो,_
_सलामत है, सलामत है.._
_तुम्हें मैं किस तरह भूलूँ,_
_ये आदत है, ये आदत है.._
_तुम्हारे ख़ाब हो पूरे,_
_इबादत है, इबादत है.._
© *चन्द्रभान पटेल ‘चंदन’*
(Visited 7 times, 1 visits today)