KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

शीत ऋतु पर ताँका

0 56

शीत ऋतु पर ताँका

{01}
ऋतु हेमंत
नहला गई ओस
धरा का मन
तन बदन गीले
हाड़ों में ठिठुरन ।

{02}
लाए हेमंत 
दांतों में किटकिट
हाड़ों में कंप
सर्द सजी सुबह 
कोहरा भरी शाम ।

{03}
हेमंत साथ
किटकिटाए दाँत 
झुग्गी में रात 
ढूँढ रहे अलाव
काँपते हुए हाथ ।

□ प्रदीप कुमार दाश “दीपक”

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.