शीत के हाइकु

शीत के हाइकु
——————————————-

जल का स्रोत
चट्टानों पर भारी 
निकला फोड़ ।

     ●●●

सांध्य गगन
सूरज को छिपाने 
करे जतन ।

     ●●●

शीत का रूप
सूरज बाँच रहा
स्नेहिल धूप ।

     ●●●

शीत का घात
हिलते नहीं पेड़
ठिठुरें पात ।

     ●●●

पहाड़ी गाँव 
छिप गया सूरज
शीत का डर ।

     ●●●

□ प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
           (छत्तीसगढ़)

(Visited 3 times, 1 visits today)