श्री कृष्ण स्तुति

चौपइया -छंद
चार चरण
18,8,12 यति
कुल मात्रा32 प्रत्येक चरण में।
अन्त गुरु

श्री कृष्ण स्तुति
——————

ब्रज जन हितकारी,
गिरिवर धारी,
यशुमति मोद प्रदाता।

कालिय मद मर्दन,
सब दुख भंजन, 
जन रंजन सुख दाता।

दानव संहारे,
ब्रज रखवारे
माधव मदन मुरारी।

कल वेणु बजावे,
गोपि बुलावे,
रास रसिक मनहारी

पुष्पाशर्मा”कुसुम”?

(Visited 8 times, 1 visits today)