संभव क्यों नहीं

1 163

संभव क्यों नहीं
-विनोद सिल्ला

कामना है
न हो कोई सरहद
न हो कोई बाधा
भाषाओं की
विविधताओं की
जाति-पांतियों की
सभी दिलों में बहे
एक-सी सरिता
सबके कानों में गूंजे
एक-से तराने
सबके कदम उठें
और करें तय 
बीच के फांसले
यह सब
नहीं है असंभव
आदिकाल में था
ऐसा ही
फिर आज संभव
क्यों नहीं

1 Comment
  1. Naresh Khokhar says

    Very Nice

Leave A Reply

Your email address will not be published.