KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

सरकारी योग दिवस -vinod silla (sarkari yog divas)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar 

योग दिवस

आज है योग दिवस
नहीं-नहीं
सरकारी योग दिवस 
आज के आयोजन में
प्रशासन था
भीड़ जुटाने के लिए
शीर्षासन में
जो समस्त कर्मचारी
व अधिकारियों को लाया
लगभग अपहरण करके 
सत्‍तासीन थे
सुखासन में
अनपढ़ या कम पढों की
खिदमत में थे 
उच्‍चाधिकारी
अंधे ने 
अपने-अपनों को
बांटी रेवडियाँ
यूँ मना योग दिवस.
vinod silla 
-विनोद सिल्‍ला©
 इस पोस्ट को like करें (function(d,e,s){if(d.getElementById(“likebtn_wjs”))return;a=d.createElement(e);m=d.getElementsByTagName(e)[0];a.async=1;a.id=”likebtn_wjs”;a.src=s;m.parentNode.insertBefore(a, m)})(document,”script”,”//w.likebtn.com/js/w/widget.js”);

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

टूलबार पर जाएं