KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

सरस्वती दाई तोर पइयां लागव ओ(Saraswati dai tor painya laagav o)

0 184
~~~~~~~~~~~~~~~~
सरस्वती दाई तोर पइयां लागव
कंठ में बिराजे जेकर भाग जागय ओ।
तोरे आसरा म नान्हे लइका पढ़ जाथे।
बुद्धि पाके ज्ञानी कलाकार बन जाथे।
मन ल भरमा के तंय,
धार ल ठहरा के तंय।
डहके डुबत नइयां लागय ओ।
सरसती दाई ………
बिनती हावय दाई सब ल ज्ञान म नौहादे।
दुखिया ल सुख दे तंय पीरा बिसरादे
अंतस में रम के तंय,
अंजोरी कस बर के तंय।
तीपत घाम घलो छइहां लागय ओ।
सरसती दाई तोर पइयां लागव ओ।
माथ म बिराजे ओकर भाग जागय ओ।
नाम – तेरस कैवर्त्य ‘ऑसू’
गांव – सोनाडुला, (बिलाईगढ़)
जिला – बलौदाबाजार-भाटापारा (छ. ग.)
मोबाइल 9399169503, 9165720460
Leave A Reply

Your email address will not be published.