स्वरोजगार तुमको ढूंढना हैं (swarojgar tumko dhundhna hai)

स्वरोजगार तुमको ढूंढना हैं

ऐसी रोजगार नही चाहिए,
जिसमें राजनीति की बू आती है।
घूसखोर जिसमें पैसा लेते हैं,
और डिग्रीयां देखी नहीं जाती हैं।

पैसों की शान शौकत से वह, 
रोजगार तो हासिल कर लेते हैं ।
समाज में दिशा नहीं दे पाते वह,
समाज में बदनाम हो जाते हैं ।

गरीब घर का हैं वह बालक ,
पढ़ाई में सबसे आगे रहते हैं ।
नौकरी में पैसा ना दे पाने पर,
नौकरी से वंचित रह जाते है।

देश की अर्थव्यवस्था कह रही ,
यह बात बिल्कुल सच्ची है ।
बेरोजगारों की हालत से बढ़िया,
भिखारियों की हालत अच्छी है।

फिर भी पढ़ना मत छोड़ना,
कर्म पर विश्वास तुमको करना हैं।
सरकारी नौकरी न मिले तो क्या?
स्वरोजगार तुमको ढूंढ़ना हैं।

~~~~~~~~~~~~~~~~

रचनाकार – डीजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”मिडिल स्कूल पुरुषोत्तमपुर,बसनाजिला महासमुंद (छ.ग.)मो. 8120587822

(Visited 1 times, 1 visits today)

डिजेन्द्र कुर्रे कोहिनूर

नाम -- डिजेन्द्र कुर्रे "कोहिनूर" पिता -- श्री गणेश राम कुर्रे माता -- श्रीमती फुलेश्वरी कुर्रे शिक्षा -- बीएससी(बायो)एम .ए.हिंदी ,संस्कृत, समाजशास्त्र ,B.Ed ,कंप्यूटर पीजीडीसीए व्यवसाय -- शिक्षक जन्मतिथि -- 5 सितंबर 1984 प्रकाशित रचनाएं -- बापू कल आज और कल(साझा संग्रह),चाँद के पार साइंस वाणी पत्रिका, छ ग जनादेश अखबार, छ ग शब्द आदि कई पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित। सम्मान -- 1. राष्ट्रीय कवि चौपाल कोटा राजस्थान प्रथम द्वितीय तृतीय 2019। 2. श्रेष्ठ सृजन रचनाकार का सम्मान। 3. बिलासा साहित्य सम्मान । 4. कला कौशल साहित्य सम्मान। 5. विचार सृजन सम्मान 2019। 6. अंबेडकर शिक्षा क्रांति अवार्ड। 7. छत्तीसगढ़ गौरव अलंकरण अवार्ड 2019 8. मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण अवार्ड 2019 पता -- ग्राम पीपरभावना, पोस्ट- धनगांव,तहसील-बिलाईगढ़, जिला- बलौदाबाजार ,छत्तीसगढ़ पिन - 493559 मोबाइल नंबर - 8120587822