स्वावलंबन

स्वावलंबन

स्वावलंबन है जीवन अवलंबन
बिन स्वावलंब जीवन है बंधन
स्वावलंबन ही है आत्मनिर्भरता
बिन इसके जीवन दीप न जलता।

स्वावलंबन जग में पहचान कराता
शिक्षा का सदुपयोग सिखाता
निराशा में भी आशा भरता
ऊसर में भी प्रसून खिलाता।

अपना दीपक स्वयं बनो
स्वावलंबन ही है सिखलाता
जीने का दृष्टिकोण बदलना
स्वावलंबी है कर दिखलाता।

स्वावलंबन है आत्म अवलंबन
आत्म अवलंबन जब आता है
तो आत्मसम्मान जाग जाता है
आत्मावलंबी स्वयं ही सारे अभाव मिटाता है
नहीं ताकता मुँह किसी का
सम्मान की रोटी खाता है।

स्वालंबन की भूख ही जीवन सफल बनाती है
परावलंबन का यह कलंक मिटाती  है
स्वावलंबन से सुख न मिले तो क्या
स्वात्मा खुशी से तो इठलाती है।

परावलंबी की आत्मा स्वप्न में भी न सुख पाती है
स्वावलंबन भले बुरे का भेद मिटाती है
आत्मसम्मान जगता है जब
आत्मा हर्षित हो जाती है।

स्वावलंबन का पथ ही सत्य संकल्प है
आत्मसम्मान से जीने का न कोई विकल्प है
स्वावलंबन पर न्योछावर कुबेर का खजाना है
स्वावलंबन को सबने जीवन रेखा माना है।

स्वालंबन के आनंद का न कोई अंत है
स्वावलंबन का सुख दिग दिगंत है
अपना हाथ जगन्नाथ हो कुसुम तो
पतझड़ भी लगता वसंत है।

कुसुम लता पुंडोरा

(Visited 64 times, 1 visits today)