हंसवाहिनी

0 90

विषय-हँसवाहिनी
विधा-लावणी छन्द

🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔

हंसवाहिनी मात शारदे
हमको राह दिखा देना।
वीणापाणि पद्मासना माँ
तम अज्ञान हटा देना।।
🕉🕉🕉
विद्यादायिनी तारिणी माँ
करु प्रार्थना मैं तेरी।
पुस्तकधारिणी माँ भारती
हरो अज्ञानता मेरी।।
🕉🕉🕉
हम सब अज्ञानी है माता
हम पर तुम उपकार करो।
तुम दुर्बुद्धि दुर्गुण मिटाकर
शुचि ज्ञान का दान करो।।
🕉🕉🕉
हे धवलवस्त्रधारिणी मात
हम भक्ति करें तुम्हारी।
दिव्यालंकारों से भूषित
क्षमा करो भूल हमारी।।
🕉🕉🕉
शिवा अम्बा वागीश्वरी माँ
हम सब मानव अज्ञानी।
रूपसौभाग्यदायिनी अम्ब
बुद्धिदान करो भवानी।।
🕉🕉🕉
अन्धकारनाशिनी माते
अंधकार को दूर करो।
ज्ञानदायिनी बुद्धिप्रदा माँ
दोष हमारे दूर करो।।
🕉🕉🕉
वीणावादिनी सुरपूजिता
कोकिल कंठ प्रदान करो।
छेड़ दो तुम वीणा की तान
एक मधुर झंकार करो।।

🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔

©डॉ एन के सेठी

Leave A Reply

Your email address will not be published.