हकीकत तब पता चलता है

हकीकत तब पता चलता है
                 
कौन अपना है ,कौन पराया है ,
                                 ये तो वक़्त बताता है ।
हकीकत तब पता चलता है जीवन में,
                    जब बुरा वक़्त आता है ।।01।।
न कोई दोस्त है यहां,
                                 ना कोई यार है ।
यह दुनियाँ भी यारों ,
                       मतलब का संसार है ।।02।।
बुरे वक़्त में हालात तो क्या ?
                       परछाई भी साथ छोड़ देता है ।
डुबते को तिनके की सहारा तो क्या ?
  पानी की बहाव भी ,
                    अपनी ओर खींच लेता है ।।03।।
किसे यहाँ अपना कहें ,
                           ये हालात हमें सिखाता है ।
हकीकत तब  पता चलता है जीवन में ,
                      जब बुरा वक़्त आता है ।।04।।
आदर्श दिखाते हैं लोग ,
                          और कहते हैं,  हम हैं सच्चे ।
देख लिए संस्कारी ,
                           वह भी अच्छे अच्छे ।।05।।
संस्कार तो क्या व्यवहार भी ,
                     समय के साथ  बदल जाता है ।
हकीकत तब पता चलता है जीवन में,
                     जब  बुरा वक़्त आता है ।।06
जो जैसा है ,
                     वैसा दिखता नहीं ।
जो जैसा दिखता है ,
                          वैसा है ही नहीं ।।07।।
मैं तो क्या पूरी दुनियाँ  ही ,
                              यहीं धोखा खाता है ।
हकीकत तब पता चलता है ,
                       जब बुरा वक़्त आता है ।।08।।
✒️गंगाधर गांगुली “सुलेख “
                 “समाज सुधारक ,युवा कवि “
(Visited 3 times, 1 visits today)