KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

हम भारत के वीर(hum bharat ke veer)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar #manibhainavratna# ham bharat ke veer

हम भारत के वीर, वीर हैं हम भारत के ,हम भारत के वीर ।
सुंदर सुगठित शरीर ,धीर हैं अपने मन के, हम भारत के वीर ।
इतनी बड़ी धरती में मोती सी अपनी धरती।
धरती की खुशबू छुपी अपने प्यारे भारत में ।
मंद मंद समीर मानसून बरसाए नीर हमारे भारत के।।
हम भारत के वीर,वीर हैं हम भारत के ,हम भारत के वीर।
हिमालय का ताज पहने नदियां मानो इसके गहने ।
तीनों ओर धोते हैं पाद समंदर के क्या है कहने ?
हरे मैदान के चिर लक्ष्मी सी तस्वीर हमारे  भारत के ।
हम भारत के वीर,वीर हैं हम भारत के ,हम भारत के वीर।

मनीभाई ‘नवरत्न’,छत्तीसगढ़,