हम भारत के वीर(hum bharat ke veer)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar #manibhainavratna# ham bharat ke veer

हम भारत के वीर, वीर हैं हम भारत के ,हम भारत के वीर ।
सुंदर सुगठित शरीर ,धीर हैं अपने मन के, हम भारत के वीर ।
इतनी बड़ी धरती में मोती सी अपनी धरती।
धरती की खुशबू छुपी अपने प्यारे भारत में ।
मंद मंद समीर मानसून बरसाए नीर हमारे भारत के।।
हम भारत के वीर,वीर हैं हम भारत के ,हम भारत के वीर।
हिमालय का ताज पहने नदियां मानो इसके गहने ।
तीनों ओर धोते हैं पाद समंदर के क्या है कहने ?
हरे मैदान के चिर लक्ष्मी सी तस्वीर हमारे  भारत के ।
हम भारत के वीर,वीर हैं हम भारत के ,हम भारत के वीर।

मनीभाई ‘नवरत्न’,छत्तीसगढ़, 
(Visited 4 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़