हरित ग्राम

0 7

हरित ग्राम~
हरी दीवार पर
पेड़ का चित्र।
छाया कहीं भी नहीं
दूर दूर तक।
नयनाभिराम है
महज भ्रम।
खुद आंखों में झोकें
धुल के कण।

✍मनीभाई”नवरत्न”

Leave A Reply

Your email address will not be published.