हरिहरण छंद

हरिहरण छंद
            •~•~•~•~•~
शिल्प – चार चरण , प्रतिचरण ३२ वर्ण ,
           ८,८,८,८, वर्ण पर यति, प्रत्येक
           यति के अंत में लघु-लघु ||
•~•~•~•~•~•~•~•~•~•~•~•~•~•
चित स्याम धार कर,
     सोलह सिंगार कर,
          जमुना को पार कर,
                  बन में पधार कर |
नेह से निहार कर,
      गर बाँह डार कर,
            तन मन वार कर,
                 विमल विहार कर ||
प्रेम-प्रीति प्यार कर,
    लोक लाज हार कर,
             मृदु  मनुहार  कर,
                   सुरति विसार कर |
पुन पट झार कर,
      सुमुख संवार कर,
            चली उर गार कर,
                 ‘विश्वेश्वर’ धार कर||
                         विश्वेश्वर शास्त्री’विशेष’
                           राठ हमीरपुर उ.प्र.
(Visited 3 times, 1 visits today)