हाइकु त्रयी

*हाइकु त्रयी*
~~~●~~~

[१]
कोहरा घना
जंगल है दुबका
दूर क्षितिज!

[२]
कोहरा ढांपे
न दिखे कुछ पार
ओझल ताल

[३]
हाथ रगड़
कुछ गर्माहट हो
कांपता हाड़

*-@निमाई प्रधान’क्षितिज’*

(Visited 2 times, 1 visits today)