KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

होली दोहे हरिओम शर्मा

होली पर दोहे

मंगलमय हो आपको, होली का त्यौहार।
द्वेष, बैर को छोड़कर , ख़ूब लुटाओ प्यार।।

रंग अबीर गुलाल हैँ, गुजियाओं के संग ।
पिचकारी है प्रेम की, ये फागुन के रंग ।।

भल्ले टिक्की पापड़ी काजी है अनमोल ।
ठंडाई मैं प्यार का ,रंग दिया है घोल ।।

हिस्से पापड़ कुरकुरे, और वेसन के सेव ।
ठंडाई है भांग की ,खुश होंगे महादेव।।

व्हाट्स एप पर कर दिया, हमने तो ऐलान।
कितना भी रंग डाल लो ,फ़ोटो है श्रीमान।।

द्वेषभाव कटुता जलन ,ऊंच नीच को भूल ।
प्रेम सहित स्वीकार लो ,ये फागुन के फूल।।

नशा कीजिये प्यार का ,मिट जाये सब बैर ।
सबको अपना कीजिये, रहे न कोई गैर ।।

इंतजार मैं हम खड़े ,लेकर गुज़िया,रंग ।
कृष्ण कन्हैया आइये, राधा जी के संग ।।

ढोल नगाड़े बज रहे ,गाते रसिया फाग ,
शर्वत गुजिया सज रहे,उमड़ रहा अनुराग ,

सरसों सेमल ढाक के ,रंग बिरंगे फूल ,
मस्त धूप हल्की हवा , मौसम है अनुकूल ,

आम लदे है बौर से ,फ़ैली मस्त सुगंध ,
प्रेमांकुर फूटन लगे ,टूटन लागे बंध,

सजनी साजन खेलते, उड़े अबीर गुलाल ,
हुआ हरा तन और मन ,गाल गुलाबी लाल ,

द्वेष ईर्स्या,कपट छल ,जले होलिका संग ,
सराबोर मन प्यार से ,ऐसा वरसे रंग ,

Leave A Reply

Your email address will not be published.