होली होनी थी हुई(holi honi thi huyi)

.                      *दोहा छद*
.                     १ 
कड़वी  सच्चाई  कहूँ, कर लेना स्वीकार।
फाग राग ढप चंग बिन, होली  है बेकार।।
.                     २ 
होली होनी  थी हुई, कहँ पहले  सी बात।
त्यौहारों की रीत को,लगा बहुत आघात।।
.                     ३ 
एक  पूत  होने  लगे, बेटी  मुश्किल  एक।
देवर भौजी  है नहीं, कित साली की टेक।।
.                     ४ 
साली  भौजाई  बिना, फीके  लगते  रंग।
देवर  ढूँढे   कब  मिले, बदले  सारे  ढंग।।
.                     ५ 
बच्चों के  चाचा  नहीं, किससे  माँगे  रंग।
चाचा भी  खाए नहीं, अब पहले सी भंग।।
.                     ६ 
बुरा  मानते  है  सभी, रंगत हँसी मजाक।
बूढ़ों की भी  अब गई, पहले  वाली धाक।।
.                     ७ 
पानी  बिन  सूनी  हुई, पिचकारी की धार।
तुनक मिजाजी लोग हैं,कहाँ डोलची मार।।
.                     ८ 
मोबाइल   ने   कर   दिया, सारा   बंटाढार।
कर एकल इंसान को,भुला दिया सब प्यार।।
.                     ९ 
आभासी  रिश्ते  बने, शीशपटल   संसार।
असली  रिश्ते भूल कर, भूल रहे घरबार।।
.                     १० 
हम  तो  पैर पसार कर, सोते चादर तान।
होली  के  अवसर लगे, घर मेरा सुनसान।।
.                     ११ 
आप  बताओ  आपके, कैसे   होली  हाल।
सच में ही खुशियाँ मिली,कैसा रहा मलाल।।
.                      
✍©
बाबू लाल शर्मा,”बौहरा”
सिकंदरा,दौसा, राजस्थान


(Visited 5 times, 1 visits today)