12 मई नर्स दिवस पर विशेष

मौत की दहलीज में ,जब कोई हो पड़े-पड़े।
खून से लथपथ ,अंग भंग हो के सड़े-सड़े ।
अपने तक तरस खाते,देख दूर खड़े-खड़े ।
तब एक महिला ,पस-दुर्गंधों से लड़े-लड़े।
अस्पताल में महत्वपूर्ण है इसकी भूमिका ।
“सिस्टर”कहते सब जिसे,वो है परिचारिका।
बीमारी की पहचान में डॉक्टर करता काम।
पर निदान प्रक्रिया में नर्स दे सफल अंजाम।
छुपी नहीं आज जग में नर्सों की काबिलियत।
“12 मई नर्स दिवस” मनाते जान अहमियत।
आज के दिन जन्मीं थी नर्सिंग की जन्मदात्री ।
जो थी साक्षात् दया व सेवा भाव की प्रतिमूर्ति ।
“फ्लोरेंस नाइटिंगल “थी   एक ब्रिटिश महिला ।
“क्रीमिया युद्ध” में जानी गई “लैंप वाली महिला”।
दिन तो क्या?सेवा में रात भी जाती लैंप लेकर ।
मरीजों की हाल जानने को, वो देवदूत बनकर।
दुर्गंध और चीख-पुकार से कभी ना मुख मोड़ा।
उच्चकुल की होके भी दुखियों से नाता जोड़ा ।
पहले घटिया समझा जाता था , नर्सों का पेशा ।
काम माना जाता अनपढ़ और चरित्रहीन जैसा ।
“लेडी विथ द लैंप” ने बदली , इसकी परिभाषा।
घायल पीड़ितों  में लाए , नव जीवन की आशा।
अस्पताल में सेवा करके, जीवन को करते आबाद  ।
“मनी भाई “ने  दिया कविता से नर्सों को धन्यवाद ।।
(Visited 6 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे