KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Monthly Archives

जनवरी 2019

कुण्डलियां

साँचे-झूठे खेल में , फँस जाता है झूठ।नहीं साँच को आँच है , रिश्ते जाये रूठ।।रिश्ते जाये रूठ , मन से भेद बढ़ जाते।जतन करो फिर लाख , सहज वो क्या हो…

बैताली छंद

बैताली छंद  : -----          प्रथम , तृतीय  चरण  में  6  मात्रा          द्वितीय ,  चतुर्थ  चरण  में  8  मात्रा          पदान्त :   गुरु , लघु  गुरु…

जीवन का शाश्वत सत्य

जीवन का शाश्वत सत्यभोर की बेला हुई, दिनकर की पलकें खुली।इंतज़ार ख़त्म हुआ, सौगात लेकर आई नयी सुबह।।धीरे धीरे आँखे खोल रहा,स्वर्ण किरणें बिखेर रहा।नयी…

आज का नेता

आज का नेताजहाँ बहरी सियासत है, जहाँ कानून है अंधा।करें किसपे भरोसा तब, जहाँ पे झूठ है धँधा।विचारों पे लगा पहरा,बड़ा ये ज़ख्म है गहरा,भला क्या देश का…

मेरी लाली लाली

मेरी लाली लाली मेरी  लाली लाली  मैंया की लाली  है सिंगार ।लाली बिंदिया  लाली सिंदूर    होंठ कमल दल  लाल।।मेरी  लाली लाली -मेरी लाली  लाली  मैंया…

अतीत

गवाहीशंबुक रीषि कीकटी गर्दनएकलव्य काकटा अंगूठाटूटे व जीर्ण-शीर्णबौद्ध स्तूपखंडित बुद्ध की प्रतिमाएंधवस्त तक्षशिला व नालंदातहस-नहसबौद्ध साहित्यधूमिल…

आज का भारत

**      आर्द्रा छंद      **  उपेन्द्र वज्रा + इंद्रवज्रा  (प्रथम चरण )   इंद्रवज्रा + उपेन्द्र वज्रा  (द्वितीय चरण )           ##  आज का भारत  ##हवा …

हिन्दी की बिंदी में शान

हिन्दी की बिंदी में शान हिन्दी भाषा की बिंदी  में शान।तिरंगे के गौरव गाथा की आन।।राजभाषा का ये पाती सम्मान।राष्ट्रभाषा से मेरा भारत महान ।।संस्कृत के…

मुझे तो जीना है

मुझे तो जीना है••••••••••••••••••चलो आजहो चलें तन्हा।कब से तड़प रहा है,कुछ कहने को;ये दिल नन्हा।शहर से दूरसागर किनारे,मिलने जाना है खुद से।जो पास होके…

हर रोज़ मर रहा हूँ मैं

कैसे गुज़र रहा हूँ मैंहर रोज़ मर रहा हूँ मैंरुसवाइयों के सदके में पल -पल बिखर रहा हूँ मैं सूरत बिगड़ गई थी कुछअब कुछ संवर रहा हूँ मैं सारे ही लोग अपने…