Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

आँखो का नूर

‘अपने लाल के लिए माँ की जीवन के प्रति सीख।

0 104

आँखो का नूर

मेरे लाल ,तू है आंखो का नूर,
मुझे तुझ पर इतना है गरूर,
बस याद रखना तू इतना जरूर,
कभी न होना तू बे-नूर,
राह में काँटे बिखरे हो दूर दूर
तू मत होना थकान से चूर,
पथरीली राहों पर चलकर पहुंचना सुदूर,
‘छोटी राहें’ ललचायेगी तुझे ये है दस्तूर,


पर न कभी भटकना,न कभी बहकना,
मंजिल तेरे कदम चूमेगी झूम-झूम,
मेरे लाल, मेरे आँखों के नूर
मुझे तुझ पर इतना गुरूर।

CLICK & SUPPORT


जीवन में आयेंगे कई उतार चढ़ाव,
तू मोड लेना पानी का बहाव,
अपनी राहों में सजाना सरगम के सूर,
कभी न होना तू मगरुर,
राह मे आयेंगे कई मकाम,
पर पहुँचना है तुझे मुकाम,
मंजिल तेरे कदम चूमेगी झूम-झूम।


मेरे लाल, मेरे आँखो के नूर,
मुझे तुझ पर है इतना गरूर।।

माला पहल (मुंबई )

Leave A Reply

Your email address will not be published.