KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

आधुनिकता का दंभ – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

इस रचना के माध्यम से कवि आधुनिक विचारों से अपने आपको बचाकर जीवन में इंसानियत और मानवतावादी विचारों के लिए प्रेरित कर रहा है |
आधुनिकता का दंभ – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

0 174

आधुनिकता का दंभ – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
टेढ़ी मेढ़ी पगडण्डी पर
चल रहे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
वस्त्रों से हमें क्या लेना
चिथडो पर जी रहे हैं हम
मंत्र सीखे नहीं हमने
गानों से जी बहला रहे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
पुस्तकें पढ़ना हमें
अच्छा नहीं लगता
इन्टरनेट मोबाइल से
दिल बहला रहे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
अति महत्वाकांक्षा ने हमको
कहाँ ला खड़ा किया है
अपराध की अंधी दुनिया मे
जिंदगी ढूंढ रहे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
सत्कर्मो से हमें
हमें करना क्या
बेशर्मो की तरह जिंदगी
जिए जा रहे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
अर्थ के मोह ने
हमें व्याकुल किया है
तभी अपराध की शरण
हो रहे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
आवश्यकताएं रोटी कपडा और मकान से
ऊपर उठ चुकी हैं
कहीं जमीर कहीं तन
कही सत्य बेचने लगे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
शक्ति और धन की उर्जा का
दुरपयोग करने लगे हैं हम
गिरतों को और नीचे गिराने
ऊंचों को और ऊँचा उठाने लगे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
हमारे पागलपन की हद तो देखो
मानव को मानवबम बना रहे हैं हम
जानवरों की संख्या घटा दी हमने
आज आदमी का शिकार करने लगे हैं हम
आधुनिकता का दंभ भर
जी रहे हैं हम
अब तो संभलो यारों
अनैतिकता से दूरी रख जीवन संवारो यारों
आधुनिकता की अंधी दौड से बहार आओ यारों
चारों और इंसानियत और मानवता
का मन्त्र सुनाओ यारों

Leave A Reply

Your email address will not be published.