KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

आज का भारत -आर्द्रा छंद

0 85

आर्द्रा छंद –   उपेन्द्र वज्रा + इंद्रवज्रा  (प्रथम चरण )
  इंद्रवज्रा + उपेन्द्र वज्रा  (द्वितीय चरण )         

आज का भारत 

हवा  चली  है  अब  देश  में  जो
         विकास  गंगा  बहती  मिली  है ।
आनंद   वर्षा   चहुँ  ओर   होती
        तरंग  से  आज  कली खिली है ।। गरीब   कोई   मिलता   नहीं   है
        बेरोजगारी    अब     दूर   भागे ।
संसाधनों  की  कमियाँ  नहीं  है
         रिकार्ड  उत्पादन  और  आगे ।। बना   रहा   भारत   आशियाना
         है  चाँद की भूमि निहाल होती ।
देखो  महाशक्ति  नई  सजी तो
        उदारता  विश्व   मिसाल  होती ।। पड़ोस   संबंध  सुधार    आये
        मैत्री   बने  आदर्श  हैं   निराले ।
दे मौन हो स्वीकृति विश्व सारा
         महान  नेता  पद  को सँंभाले ।।                 

~   रामनाथ साहू  ”  ननकी  “
                                मुरलीडीह

Leave a comment