KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

आओं करें भारतीय नववर्ष का अभिनंदन(aao kare bhartiya navvarsh ka abhinandan)

0 286

चैत्र हिंदू पंचांग का पहला मास है। इसी महीने से भारतीय नववर्ष आरम्भ होता है। हिंदू वर्ष का पहला मास होने के कारण चैत्र की बहुत ही अधिक महता है। अनेक पर्व इस मास में मनाये जाते हैं। चैत्र मास की पूर्णिमा, चित्रा नक्षत्र में होती है इसी कारण इसका महीने का नाम चैत्र पड़ा। मान्यता है कि सृष्टि के रचयिता ब्रह्मा ने चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से ही सृष्टि की रचना आरम्भ की थी। वहीं सतयुग का आरम्भ भी चैत्र माह से माना जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इसी महीने की प्रतिपदा को भगवान विष्णु के दशावतारों में से पहले अवतार मतस्यावतार अवतरित हुए एवं जल प्रलय के बीच घिरे मनु को सुरक्षित स्थल पर पहुँचाया था, जिनसे प्रलय के पश्चात नई सृष्टि का आरम्भ हुआ।इसी दिन आर्य समाज एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना हुई थी। इसी पर अर्थात भारतीय नववर्ष जो कि चैत्र हिंदू पंचांग का पहला मास है इस्से सम्बंधित कविता कविता पढ़िए-

ma-durga
मां दुर्गा

आओं करें भारतीय नववर्ष का अभिनंदन

आई हैं चैत्र शुक्ल वर्ष प्रतिपदा,
आओं करें भारतीय नववर्ष का अभिनंदन ।
हवाएं महक रही है, कोयल चहक रही हैं।
लताएं झूम रही हैंं, बरखा बरस रही हैं।।


नव सूरज उग आया, नव हैं प्रभात।
चेहरों पर हंसी,उल्लास और खुशी ; नव हैं स्वागत।।
फूल धरती के चमन में खिल रहे।
आज दिल से दिल हर तरफ हैं मिल रहे।।


मंदाकिनि प्रेम की हर तरफ बह रही।
स्वर लहरियां कानों में जैसे कुछ कह रही।।
आई है चैत्र शुक्ल वर्ष प्रतिपदा,


आओं करें भारतीय नववर्ष का अभिनंदन।
नया जोश हैं, नया होश हैं, नई स्फूर्ति फैल रही।
खुशबू प्यार ही प्यार की, महक बनकर मन मोह रही।।


आंगन में बहार लौटी हैं , मिश्री मौसम में घुलती हैं।
ठंडी हवाएं परबतों , नदी नालों से जा मिलती हैं।।
अमराई में गाती कोकिल, हृदय में अमृत घुलता हैं।


भारतीय नववर्ष में आदर सत्कार संग चलता हैं।।
भ्रमरों की टोली फूलों की खुशबूं सूंघ रही।
जोश और जुनून कंगूरे जैसे कोई चूम रही।।


आई है चैत्र शुक्ल वर्ष प्रतिपदा,
आओं करें भारतीय नववर्ष का अभिनंदन।
बाहर देखों हल्की धूप फैली हैं।


धरती मां की चादर सुहानी, नहीं ये मैली हैं।।
मानव मन तरंगित, दिशाएं भी झूम रही।
भूल गये सब दुख दर्द, नहीं दिल में कोई हूम रही।।


ज्योति तरंग से मन हर्षित हैं।
भारत की धरती नव संवत्सर से आज गर्वित हैं।।
नववर्ष में नव हर्ष हैं , जीवन बना आज उत्कर्ष हैं।


नववर्ष में नव गीत हैं, नव प्रीत हैं, नव च़राग मेंं खिला हर्ष हैं।।
आई हैं चैत्र शुक्ल वर्ष प्रतिपदा,
आओं करें भारतीय नववर्ष का अभिनंदन।


जीत नवल हैं, सुकून भरा हैं आज माहौल।
हर तरफ रंग, हर तरफ चंग, बढ़ रहा आज मेलजोल।।
उजला उजला पहर हैं, मंजर खूब सुहाना।


नव गीत से, नव प्रीत से भारतीय नववर्ष हैं आज मनाना।।
न कोई शिकवा हैं, न ही कोई गिला हैं।
इंसान, इंसान से आज खुशी संग मिला है।।


उज्ज्वल उज्ज्वल प्रकाश हैं, पंछी कलरव गा रहे।
समन्दर, पहाड़, नदियां, वनस्पतियां मस्ती में छा रहे।।
आई हैं चैत्र शुक्ल वर्ष प्रतिपदा,


आओं करें भारतीय नववर्ष का अभिनंदन।
सौर,चंद्र, नक्षत्र,सावन ,अधिमास का क्या खूब समावेश हैं।
ब्रह्मदेव ने की थी सृष्टि रचना, जग ने जानी महिमा, ये भारत देश हैं।।


मधु किरणें पूरब दिशा से आज बरस रही हैं।
सिंदूरी हैं भोर, फसलें खेतों में लहक रही हैं।।
चार दिशाओं ने घोला कुंकुम, वातावरण हसीन ।


सूरज हैं सौगातें लाया, किरणें हैं रंगीन।।
अवनी से अम्बर तक घुल गई मिठास।
चैत्र मास में होता भारतीय नववर्ष का अहसास।।

धार्विक नमन, “शौर्य” ,डिब्रूगढ़, असम,मोबाइल 09828108858

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.