Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

आसाम प्रदेश पर आधारित दोहे-सुचिता अग्रवाल “सुचिसंदीप”

0 358

आसाम प्रदेश पर आधारित दोहे

ब्रह्मपुत्र की गोद में,बसा हुआ आसाम।

प्रथम किरण रवि की पड़े,वो कामाख्या धाम।। 

हरे-हरे बागान से,उन्नति करे प्रदेश।

खिला प्रकृति सौंदर्य से,आसामी परिवेश।।

धरती शंकरदेव की,लाचित का ये देश।

कनकलता की वीरता,ऐसा असम प्रदेश।।

CLICK & SUPPORT

ऐरी मूंगा पाट का,होता है उद्योग।

सबसे उत्तम चाय का,बना हुआ संयोग।।

हरित घने बागान में,कोमल-कोमल हाथ।

तोड़ रहीं नवयौवना,मिलकर पत्ते साथ।।

हिमा दास ने रच दिया,एक नया इतिहास।

विश्व विजयिता धाविका,बनी हिन्द की आस।।

सुचिता अग्रवाल “सुचिसंदीप”
तिनसुकिया, आसाम
[email protected]

कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.