आतंक पर कुण्डलिया

0 164

आतंक पर कुण्डलिया

जल जंगल अरु अवनि पर ,
                            नर का है आतंक ।
नंगा   होकर   नाचता ,
                            कल का गंगू रंक ।।
कल  का  गंगू  रंक ,
                       नगर का सेठ कहाता ।
मानवता कर कत्ल ,
     ..                 लहू से रोज नहाता ।।
कह ननकी कवि तुच्छ ,
                       मची आपस में दंगल ।
धरती  के  ये  तत्व ,
                   बिलखते हैं जल जंगल ।।

                 ~  रामनाथ साहू ” ननकी “
               मुरलीडीह , जैजैपुर (छ. ग. )
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy