KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

आती है खुशियां थोक में

0 158

आती है खुशियां थोक में

आती है खुशी थोक में,तेरे आने से ।
झरती है मोती लब में, मुस्कुराने से ।
यह असर है तेरी दोस्ती का
जो दी है तुमने मुझे, तुमसे दिल लगाने से ।।
इंतजार रहता है तेरा,

मुझे सांसो से ज्यादा ।
भूलूं कैसे तुमसे की हुई हर वादा ।
कब छुपी है यह प्यार लाख छुपाने से ।।

गुलाबी हुई गुलाब सा

तेरे चेहरे की रंगत ।
शराबी हुई हालात पाके तेरी संगत ।।
तुझे पाकर लगा मैं दीवाना जमाने से।।

Lyrics By : Mani Bhai Navratna

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.