KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

आफरीन तेरी अदा

0 113
बेकरार दिल
बेकरार दिल
बेकरार दिल
तुझे हुआ क्या ?
तुझे देख कर ही ,जिंदगी हुई रंगीन .
दीदार हुआ चांद का, चेहरा तेरा आफरीन .
आफरीन तेरी अदा , आफरीन सबसे जुदा
आफरीन माशा अल्लाह ,आफरीन मेरे खुदा .
बेकरार दिल ….
तेरी खूबसूरती …अब तलक थी मस्तूरी
तू न जाने हिरनी… कहाँ तेरी कस्तूरी ।
बन गई मेरे लिए कल मेरा सजदा मेरा दीन
आफरीन तेरी अदा
Leave A Reply

Your email address will not be published.