KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

स्कूल पर कविता

0 233

स्कूल पर कविता

चलो ऐसी शाला का निर्माण करें
जिसका प्रकाश सबको आलोकित करें।
इस संस्था का सदस्य बन कर
हम स्वयं भी गौरवान्वित करें ।
जहां गुरु शिष्य का नाता
पिता-पुत्र से आंका जाए ।
जहां हरेक बालों में
बहन का रूप झांका जाए ।
पर सगुणों को अपनाकर
स्वदुर्गुणों को विसर्जित करें।
ऐसी शाला का निर्माण करें
जिसका प्रकाश सबको आलोकित करें ।
नियमित शाला पहुंचकर
समय का पालन करें ।
सत्य अहिंसा के मार्ग पर
अपना पग परिचालन करें ।
गुरु मार्गदर्शन स्वाध्याय को अपनाकर
भविष्य अपना सुनिश्चित करें ।
ऐसी शाला का निर्माण करें
जिसका प्रकाश सबको आलोकित करें
यह दिव्य स्थान, स्वच्छता ,
शिक्षा और मनोरंजन संयुक्त रहे।
दुर्व्यसनों और फुहड़पन
और अपराधों से मुक्त रहे ।
फूल पौधे पर लगाकर
वातावरण को सुसज्जित करें ।
ऐसी शाला का निर्माण करें
जिसका प्रकाश सबको आलोकित करें ।
यहां हर कोई विद्यार्थी
अपनी शिक्षा पर गंभीर रहे ।
जीवन के हर संकट पर
शूरवीर और धीर रहे ।
एकता के सूत्र से बंध कर
अपना देश विकसित करें
ऐसी शाला का निर्माण करें
जिसका प्रकाश सबको आलोकित करें ।
अब प्रण हमें करना है कि
यह शाला मंदिर से कम नहीं ।
जब तक हम रहे
कोई से नीचा दिखाए वह दम नहीं ।
शाला को संवारने में
मिलजुल कर सबको को प्रेरित करें।
ऐसी शाला का निर्माण करें
जिसका प्रकाश सबको आलोकित करें ।

मनीभाई नवरत्न

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.