KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

अन्नदाता की व्यथा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

अन्नदाता की व्यथा

हे जगत के अन्नदाता,
तू ही अनेक फसल उपजाता,
रहकर दिन-रात खेतों में
जन-जन को अन्न पहुँचाता,
तेरे उपजे अन्न को
खाते सब पेट भर
फिर –
खाली पेट तू सोता क्यों….
बदहालात पर रोता क्यों….

आग उगलती, जेठ की धूप में,
नंगे पाँव तपती रेत में,
नामोनिशान न कही हरियाली का
तू बीज खेतों में बोता हैं,
कपास की फसल उगाता हैं,
तेरी उपजी कपास से
ढकता जग सारा तन अपना
फिर –
नंगे बदन तू फिरता क्यों …
फटे-पुराने चिथड़े पहनता क्यों….

गड़-गड़-गड़-गड़ बादल गरजे,
कड़-कड़-कड़-कड़ बिजली कड़के,
मूसलाधार बरसातों में,
ओलावृष्टि व तूफानों में,
तू कच्ची फसल पकाता है
अपनी खेती बचाता है
फिर –
बाढ़ में तू बहता क्यों ….
दिन रात पिटता क्यों….

पौह-माह की शरद बरसातों में,
ओस-धुंध, बर्फीली रातों में,
घर से कोई बाहर न निकले
आठों पहर धूप को तरसे
शीत लहर के प्रकोपों में
गेहूं की फसल उगाता है,
जन-जन को अन्न पहुंचाता हैं,
फिर –
तेरे बच्चे भूखे-प्यासे रोते क्यों….
तुम खुदकुशी के शिकार होते क्यों…

बलबीर सिंह वर्मा “वागीश”
गॉंव – रिसालियाखेड़ा
जिला – सिरसा (हरियाणा)