रंग देहूं तोला अपन रंग मा ओ

होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण भारतीय और नेपाली लोगों का त्यौहार है। यह पर्व हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। होली रंगों का तथा हँसी-खुशी का त्योहार है। यह भारत का एक प्रमुख और प्रसिद्ध त्योहार है, जो आज विश्वभर में मनाया जाने लगा है। विकिपीडिया

holi-kavita-in-hindi
holi-kavita-in-hindi

रंग देहूं तोला अपन रंग मा ओ

आजा तै रधिया बीरीज बन मा ओ
रंग देहूं तोला अपन रंग मा ओ २
झन तै लुकाना मधुबन मा ओ
रंग देहूं तोला अपन रंग मा ओ २

तोर बर लाने हावौं मया रंग ला घोर के
झन तैह जाना राधा अइसे मोला छोड़ के
धरे हावौं पींवरा नीला रंग अउ गुलाल ओ
रंगबो रंगाबो दुनो़ फगुआ के हे साल ओ
तैहर आजा हो मोरेच सन मा ओ
रंग देहूं तोला अपन रंग मा ओ २

चंदा अउ सुरूज घलो हमरेच संग हे
धरती अगास जइसे रंगे एके रंग हे
डोंगरी पहाड़ी रुखवा फगुवा राग गावय
कोयली हा कुहकी मारय पुरवा लहरावय
हिरदे के भीतरी मा छागे हे उमंग ओ
रंग देहूं तोला अपन रंग मा ओ२

माते हावय नर नारी सुमत रंग चढ़ाके
अमर होगे तोषण हा होरी गीत ला गाके
तोर मोर पीरीत ला जन जन हा गावय
रही दुनिया मा अमर गीत गोहरावय
नाचबो नचाबो गाबो एक धुन मा ओ
रंग देबो सबला अपन रंग मा ओ २

गीतकार
तोषण चुरेन्द्र ” दिनकर “
धनगांव डौंडीलोहारा
बालोद छत्तीसगढ़

Loading

Leave a Comment