Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

औरत पर कविता

0 1,084

औरत पर कविता


औरत जानती है विस्तार को
देखती है संसार को
कभी नन्ही सी बिटिया बनकर
कभी किसी की दुल्हन बनकर
कभी अपनी ही कोख में
एक नयी दुनिया को लेकर!

CLICK & SUPPORT


नन्ही बिटिया से दादी-नानी का सफर,
तय करती है इस उम्मीद के साथ
बदलेगा समाज का नजरिया
शायद कभी गणतंत्र में…….?
अभिशप्त काल कोठरी में पड़ी,
अनगिनत सवालों में जकड़ी,
सारा जीवन अवरोधों और
वंचनाओं में कट जाता है
तपस्या और महानता कह
समाज गौरवान्वित होता है!


औरत आशाभरी नजरों से,
समाज के बदलने का इंतजार करती है,
थककर आंखें मूंद लेती है,
फिर जन्म लेती है बेटी,
वही कहानी शुरू होती है,
मगर…….. इस बार……..
इंदिरा के स्वाभिमान सी,
कल्पना की उड़ान सी,
गौरवान्वित कर राष्ट्र को
‘प्रेरणा’ बन जाती है
समूचे नारी जाति की
बदल देती है तकदीर,
आजाद हिंदुस्तान में
आजाद कर नारी को,
बना जाती है नयी तस्वीर!
अब औरत जीती है विस्तार को
देखती है संसार को,
जिज्ञासा से नहीं,विश्वास भरी आंखों से…..


–डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा’
अम्बिकापुर(छ. ग.)

Leave A Reply

Your email address will not be published.