श्रमिक का सफर

जब ढलता है दिन सब लौटते घर हर चेहरा कहां खुश होता है मगर, उसका रास्ता निहारती कुछ आंखें पर खाली हो हाथ तो कठिन डगर। ऐसा होता है श्रमिक…

1 Comment

दीप जलाएं

आओ मिलकर दीप जलाएं ***************** अगर दीप जलाना है हमको तो पहले प्रेम की बाती लाएं घी डालें उसमें राष्ट्र भक्ति का और राष्ट्र का गुण गान गाएं। आओ मिल…

2 Comments

आओ मिल कर दीप जलाएं

गर दीप ही जलाना है हमको तो पहले प्रेम की बाती लाएं घी डालें उसमें राष्ट्र भक्ति का आओ मिल कर दीप जलाएं। जाति पांती वर्ग भेद भुलाकर हम हर…

0 Comments

क्या राम फिर से आएंगे

तड़प उठी है नारी बन रही है पत्थर, दबा दिया है उसने अपने अरमानों को, छुपा लिया है उसने अपने मनोभावों को, वो जिंदा तो है मगर जीती नहीं जिंदा…

0 Comments

दो रोटी

जर्जर सा बदन है, झुलसी काया, उस गरीब के घर ना पहुंची माया, उसके स्वेद के संग में रक्त बहा है तब जाकर वह दो रोटी घर लाया। हर सुबह…

0 Comments

पुनः विश्व गुरु बनेगा भारत

हम पहले हुआ करते थे विश्वगुरु, हमारी ज्ञान पताका फहराती थी, सकल चराचर है परिवार हमारा , ये बात हवाएं भी गुनगुनाती थी। लेकिन आधुनिक बनते भारत ने, खो दिया…

2 Comments

ज़रूरी है देश

देश के रखवालों को मार रहे हैं वो इस राष्ट्र में फैला रहें हैं द्वेष, अब तो जागो सत्ता के मालिक अभी धर्म तुच्छ, जरूरी है देश। होकर इकट्ठा बने…

0 Comments

जय श्री राम

जन्म लिया प्रभु ने धरती पर तो यह धरती बनी सुख धाम, गर्व है, हम उस मिट्टी में खेले जहां अवतरित हुए प्रभु राम। राम नाम में सृष्टि है समाहित…

0 Comments

भूख : एक दास्तान

हमने तो केवल नाम सुना है हम ने कभी नहीं देखी भूख, जो चाहा खाया, फिर फैंका हम क्या जानें, है क्या भूख। पिता के पास पैसे थे बहुत अपने…

0 Comments

डॉक्टर : धरती पर भगवान

मानव कंपित, दुखी बहुत आज हुआ वो खस्ताहाल, मंदिर मस्जिद बंद हो गए काम आ रहे हैं अस्पताल। हां मैं भी एक उपासक हूं मानता हूं प्रभु का कमाल, डॉक्टर…

0 Comments