गुण की पहचान

वन में दो पक्षी, दिख रहे थे एक समान। कौन हंस है कौन बगुला, कौन करे पहचान। बगुला बड़ा था घमंडी, कहता मेरे गुण महान। तेज उड़ सकता हूं तुझसे,…

0 Comments