KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

जीवन में संगीत ही आधार है

जीवन में संगीत ही आधार है संगीत से ही जुडा़ जीवन,जीवन में संगीत ही आधार है । मां की लोरी में पाया संगीत की झंकार है।पापा के गीतों में पाया खुशियां अपार है

क्यूं बने हैं अनजान-एकता गुप्ता (विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता  )

क्यूं बने हैं अनजान -एकता गुप्ता छोड़ो सभी तम्बाकू ये तो ले लेगी जान सब जानकर फिर क्यूं बने है अनजान ?? तम्बाकू हानिकारक है यह सब जन

आतंकवाद विरोधी दिवस पर कविता -मत फैलाओ आतंकवाद ( एकता गुप्ता ‘ काव्या ‘)

आतंकवाद विरोधी दिवस पर कविता -मत फैलाओ आतंकवाद हर देश का खतरा है आतंकवादबनकर जिहादी विद्रोही फैला रहे हैं अतिवाद ।अपना कर हिंसा का पाठकर रहे अंधाधुंध अपराध

मौका मिला है परिवार के साथ जुड़ने का

मौका मिला है परिवार के साथ को जुड़ने का बस बंद करो बहुत हुई, आपसी कलहक्या मिलेगा तुम्हें परिवार तोड़ने का। आज है विश्व परिवार दिवस,मौका मिला है परिवार के