KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कभी सोचा न था- कविता – महदीप जंघेल

राज्य और देश में अभी कोरोना महामारी फैला हुआ है। सब लोग परेशान है। कई लोगो की दुनिया उजड़ चुकी है।लोग अपनो को खो चुके है। अतः घर में रहे सुरक्षित…

परिवार का महत्व- कविता, महदीप जंघेल

परिवार के बिना इंसान का कोई वजूद नही है। हर मनुष्य परिवार के लिए ही जीता और मरता है। परिवार में मिलजुलकर रहने से हर कार्य सरलता से संपन्न हो जाता…

बुरा वक्त भी गुजर जाएगा,कविता, महदीप जंघेल

बुरे वक्त में हमारा धैर्य और आत्मविश्वास हमे संबल प्रदान करती है। अतः आपातकाल में भी टूटना नही है। वक्त महान होता है। बुरा वक्त भी गुजर…