आत्म ज्ञान

आत्म ज्ञान *** निरंकुश मन पर अंकुश लगाकर सुप्त संवेदना में चेतना जगाकर त्यागकर मन से सकल अभिमान मिलता है तभी किसी को आत्म ज्ञान निर्भय अविचल स्थितप्रज्ञ होकर सुख…

0 Comments

सेदोका की सुगन्ध-पद्ममुख पंडा स्वार्थी (sedoka ki sungandh)

सेदोका की सुगन्ध प्रचण्ड गर्मीसहता गिरिराजपहन हिमताजरक्षक वहहै हमारे देश काहमको तो है नाज़वृक्षारोपणएक अभिवादनजो बना देता  वनपर्यावरण सुरक्षित रखनेखुश हो जाता मननाप सकतेमन की गहराईकाश संभव होतासमुद्र में भीहो फसल…

0 Comments

सच कहना-पद्ममुख पंडा स्वार्थी(sach kahna)

तांका की महक*** सच कहनाअपराध नहीं हैफिर भी लोगकहते डरते हैंयूं रोज मरते हैंसच कहनाबहुत जरूरी हैदेश हित मेंअपना स्वार्थ त्यागत्याग विद्वेष रागसच कहनासबका कर्त्तव्य हैसंसार टिकासच्चाई के कारणदुखों का…

0 Comments

हाइकु मंजूषा-पद्ममुख पंडा स्वार्थी (Padmmukh panda swaarthi)

हाइकू मंजूषा ***चल रही हैचुनावी हलचलप्रजा से छलभरोसा टूटाकिसे करें भरोसासबने लूटाशासन तंत्रबदलेगी जनताहक बनताधन लोलूपनेता हो गए सबअब विद्रूपमंडरा रहाभविष्य का खतराचुनौती भराखल चरित्रजीवन रंगमंचन रहे मित्रप्यासी वसुधाजो शान्त…

0 Comments

युग परिवर्तन-पद्ममुख पंडा महापल्ली(yug parivartan)

युग परिवर्तनवेद पुराण उपनिषद् ग्रन्थ सबपुरुषों ने रच डालातर्क वितर्क ताक पर रख करकिया है कागज कालासदियों से इस धरा धाम मेंझूठ प्रपंच रचायामानवता को किया कलंकितभेदभाव अपनायाब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य…

0 Comments

झूठ भी एक हकीकत है -पद्ममुख पंडा स्वार्थी (jhuth bhi ek haqiqat hai)

झूठ भी एक हकीकत है झूठ एक सच्चाई है झूठ भी एक हकीकत है झूठ के दम पर सत्य भी हार जाता है झूठ का संसार से गहरा नाता है झूठ बोलना एक कला है झूठ ने अनगिनत बार सत्य को…

0 Comments

सेदोका की सुगन्ध-पद्म मुख पंडा स्वार्थी(sedoka ki sugandh)

सत्यवादी जोपरेशान रहताअग्नि परीक्षा देतापूरी दुनियाउसे हंसी उड़ातीवो चूं नहीं करताअंधा आदमीमन्दिर चला जाताखुद को समझाताउसे देखनेजो दिखता ही नहींआंखों के होते हुएउसके घरदेर भी है सर्वदाअंधेर भी है सदान्याय…

0 Comments

सेदोका की सुगन्ध-पद्म मुख पंडा स्वार्थी

सेदोका की सुगन्ध-पद्म मुख पंडा स्वार्थीसत्यवादी जोपरेशान रहताअग्नि परीक्षा देतापूरी दुनियाउसे हंसी उड़ातीवो चूं नहीं करताअंधा आदमीमन्दिर चला जाताखुद को समझाताउसे देखनेजो दिखता ही नहींआंखों के होते हुएउसके घरदेर भी…

0 Comments

वक्त की बात वक्त पर हो जाए(waqt ki baat waqt par ho jaye)

वक्त की बात वक्त पर हो जाएकौन जाने यह वक़्त फिर आए न आएवक्त की नजाकत समझ लेना है जरूरीवक्त बड़ा बेरहम है न जाने अपने पराएसमय है बड़ा कीमती…

0 Comments

अंततोगत्वा(anttogatwa)

ऐसी है विवशतासिर्फ मुझे है पताऔर कोई भी नहीं जानताक्या है मेरे मन मेंकौन सी व्यथाबचपन से लेकरबुढ़ापे की उम्र तकपल पल सालती रही हैढेरों हैं अनुत्तरित प्रश्नजिसके जवाब मेंसिर्फ…

0 Comments