देश को एकता के सूत्र में बांधे हिंदी
हिन्‍दी दिवस

देश को एकता के सूत्र में बांधे हिंदी

देश को एकता के सूत्र में बांधे हिंदी देश को एकता के सूत्र में बांधे हिंदी।भारत के भाल की सुंदर सी सजी बिंदी।हिंदी केवल एक भाषा ही नहीं।राष्ट्र का गौरव…

टिप्पणी बन्द देश को एकता के सूत्र में बांधे हिंदी में

जय गुरुदेव

*जय गुरुदेव* भटके राही को भी जो सीरत दे।बिगड़े सूरत को खूबसूरत कर दे।शिक्षक वह महान शिल्पकार है।जो अनगढ़ मिट्टी को सुन्दर मूरत दे।1। वचन मधुर,जीवन धन्य करे उजियार।केवल आगे…

0 Comments

राष्ट्रीय एकता : हमें देशभक्ति का फर्ज बताने को

हमें देशभक्ति का फर्ज बताने को ये स्वतंत्रता वीर भगतसिंह,चंद्रशेखर,सुभाषचन्द्र की निशानी है।साढ़े तीन सौ सालों के संघर्ष,बलिदान की कहती कहानी है।स्वतंत्रता का पर्व,नील गगन में लहराता अपना तिरंगा।धर्मनिरपेक्ष संप्रभु,गणतंत्रात्मक,स्वतंत्र…

टिप्पणी बन्द राष्ट्रीय एकता : हमें देशभक्ति का फर्ज बताने को में

अयोध्या और राममंदिर- सुन्दरलाल डडसेना मधुर

*अयोध्या और राममंदिर* भगवा रंग में रंगने को लगे सदियों साल है। सालों साल तंबू में काटे भगवन इसका मलाल है। आज रामलला के मंदिर निर्माण की शुभ घड़ी आई…

0 Comments
हिन्दी कविता: कारगिल विजय दिवस की गाथा
KAVITA BAHAR LOGO

हिन्दी कविता: कारगिल विजय दिवस की गाथा

कारगिल विजय दिवस की गाथा;- *सुन्दर लाल डडसेना"मधुर"* ग्राम-बाराडोली(बालसमुंद),पो.-पाटसेन्द्री तह.-सरायपाली,जिला-महासमुंद(छ. ग.) 493558

टिप्पणी बन्द हिन्दी कविता: कारगिल विजय दिवस की गाथा में

मैं तेरा(मई 13)

*मैं तेरा(मई 13)* जीवन के शुभ दिवसों का सबेरा है। मिलती रहे खुशियों का पल बसेरा है। खास जीवन का अहसास कर लें आज। तारीखों में विशेष मैं तेरा(मई 13)…

0 Comments

श्रमिक-विकास की बुनियाद

श्रमिक-विकास की बुनियाद सूरज की पहली किरण से काम पर लग जाता हूँ। ढलते सूरज की किरणों संग वापस घर को आता हूँ। अपने घर परिवार के लिए,शरीर की चिंता…

0 Comments

जलियांवाला बाग की याद

*जलियांवाला बाग की याद* जलियांवाला बाग के अमर शहीदों को सलाम। अमर कुर्बानी का पावन अमृतसर शुभ धाम।। तड़ातड़ चली थी निहत्थों पर अनगिनत गोलियां। कसूर था बस बोल रहे…

0 Comments

मन का तामस

*मन का तमस* हो तमस का घोर अंधेरा,तो तुम यूँ घबराना ना। गर पग डगमगाए तुम्हारे,तो मिलकर साथ निभाना। हाथ उठाकर प्रण करो तुम,मिलकर बोझ उठाना ना। गर अंतरतम में…

0 Comments

कोरोना की मार

*कोरोना की मार* गाँव गली सुनसान पड़े हैं। शहर भी तो वीरान पड़े हैं। कोरोना का कहर, आदमी को नाच नचा रहा। हाहाकार मची है दुनिया में, इटली,फ्रांस,ईरान बता रहा।…

1 Comment